Course - 1. Junior Neurotherapist Duration (2+2) Months   2. Senior course duration 4+2 Months (with internship)   3. Master wellness 4+2 Months (with internship) 4. Weekend  6 + 2 Months   5. Digital Pathshala course duration 4 Months

तीन दिवसीय वैलनेस न्यूरोथेरपी प्रशिक्षण 

आरोग्य पीठ के प्रयास से असाध्य रोगियों के लिए न्यूरोथैरेपी बन रही है आशा की किरण : डॉ.कृष्ण गोपाल

घुटना कमर व गठिया जैसे असाध्य रोगों में रोगियों के लिए न्यूरोथैरेपी आशा की किरण बन रही है। यह बात आज दिनांक 18 जुलाई को आरोग्य पीठ के  एकल आरोग्य केंद्रों के संचालकों की अखिल भारतीय बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सर कार्यवाह डॉक्टर कृष्ण गोपाल जी  ने कही। उन्होंने कहा फ़्री भारतीय पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में चिकित्सा के श्रेष्ठ गुण छुपे हैं इन्हें उजागर करने का वक़्त आ गया है ।  देश के 16 राज्यों के 52  प्रतिनिधियों के चिकित्सा अनुभव को सुनने के बाद उन्होने कहा आज पारंपरिक चिकित्साओं का युग आ चुका है । 
बैठक को संबोधित करते हुए आरोग्य पीठ के संस्थापक एवं गुरु आचार्य रामगोपाल दीक्षित ने कहा कि आज देश में 2000 से अधिक युवकों ने  न्यूरो थेरेपी सीख कर  अपना रोज़गार शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा न्यूरो थेरपी बिना दबा बिना दर्द के तथा बिना किसी कुप्रभाव के रोगों का उपचार करती है । इस पद्धति को  सीखना सरल तथा इसकी शुरुआत भी सरल है ।आज गाँव गाँव में घुटना, कमर, गर्दन दर्द, गैस एसिडीटी, माइग्रेन रक्तचाप और शुगर के रोगी हार घर में है । जिनके उपचार पर मोटा ख़र्चा करना पड़ता है, जिसे गरीव आदमी नहीं कर सकता। कई बार बहुत उपचार करने के बाद भी इनका सफल समाधान नहीं मिलता । साथ ही बड़ी संख्या में  युवक बेरोज़गार है । महँगी पढ़ाई करने के बाद भी संतोष जनक रोज़गार नहीं मिलता ।  रोज़गार के अभाव में वह अपनी उच्च शिक्षा के बावजूद भी है उसके अनुरूप कार्य नहीं कर पाते। आरोग्य पीठ देश के युवकों को न्यूरो थेरेपी  सिखाकर स्व रोज़गार में आत्मनिर्भर बना रही है । साथ ही इन शिक्षित युवाओं के माध्यम से कम ख़र्च में उन असाध्य रोगियों का बिना दवा के  उपचार स्थानीय स्तर करने वाले आरोग्य  केंद्र गाँव गाँव खड़े कर रही है।  उन्होंने कहा कि इसी प्रकार के न्यूरो थेरेपी स्वरोजगार चलाने वाले एकल आरोग्य केंद्रों के प्रमुखों की यह तीन दिवसीय बैठक एवं कार्यशाला आरोग्य पीठ, भक्ति बाटिका कॉलोनी, धौरहरा गाँव, वृन्दावन में आयोजित की है । 
16 जुलाई को बैठक का उद्घाटन करते हगे मथुरा के मेयर माननीय डॉ.मुकेश आर्यबंधु जी ने देश भर से आये स्वास्थ्य सेवा में लगे सभी सभी प्रति भागियों का अभिवादन कर उत्साह वर्धन किया । उन्होंने कहा बिना दावा के रोगों का उपचार आज की बहुत बड़ी आवश्यकता है जिसमें न्युरोथैरेपी एक सफल विधा है जिसके प्रचार प्रसार में आचार्य दीक्षित व आरोग्य पीठ ने बहुत बड़ा कार्य किया है ।
17 जुलाई को मुख्य अतिथि के रूप में पधारे भारतीय सेना के लेफ़्टिनेंट जर्नल मनोज यादव जी ने कहा कि हर घर को न्यूरोथैरेपी की आवश्यकता है । उन्होंने कहा कि  आरोग्यपीठ के माध्यम से सेना के सेवा निव्रत हो रहे जवानो को न्युरोथेरेपी का सरकारी मान्यता प्राप्त प्रशिक्षण  मिलने से देश की सीमा की रक्षा के बाद सम्मान के साथ गाँव गाँव में आरोग्य सेवा का अच्छा अफ़सर मिल सकेगा । उन्होंने कहा आरोग्य पीठ एक उच्च गुणवत्ता  वाला भरोसेमंद संस्थान है । मेरा स्वयं का अनुभव है कि आचार्य दीक्षित जी इसके लिए एक आदर्श स्थापित करते हैं । कार्यक्रम में उपस्थित सभी प्रतिभागियों ने जर्नल यादव को सल्यूट देकर सम्मान किया ।
 कार्यक्रम में भागवत आचार्य संजीव कृष्ण ठाकुर जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि जिस प्रकार स्वामी रामदेव जी ने आज योग को भारत सहित दुनिया के घर घर में पहुंचाया है आचार्य राम गोपाल दीक्षित जी न्यूरो थेरेपी को भी दुनिया के अंदर घर घर में पहुँचाने का कार्य कर रहे हैं । इनका यह कार्य लोककल्याण का कार्य हैं इससे भारत स्वस्थ एवं आत्मनिर्भर बनेगा कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक क्षेत्र प्रचारक माननीय महेन्द्र शर्मा जी तथा दिल्ली से पधारे शिक्षाविद श्री गोविन्दराम अग्रवाल जी ने भी सम्बोधित किया। यह बैठक 16 जुलाई से प्रारम्भ हो कर 18 जुलाई को सम्पन्न हुई ।
 

© 2022 aarogyapeeth. All Rights Reserved |